कोविड-19 के संक्रमण की वजह से संपूर्ण भारत कोरोना काल मैं पूरी तरह से परेशान हो चुका था। और इस कोरोना काल में निर्माता-निर्देशक रोहित शेट्टी की फिल्म सूर्यवंशी पूरे 19 महीने लटकी रही। 


लेकिन अब 19 महीने के लंबे  इंतजार के।  बाद निर्माता निर्देशक रोहित शेट्टी की फिल्म सूर्यवंशी अब सिनेमाघरों में आ गई है। निर्माता-निर्देशक रोहित शेट्टी ने अपनी।    फिल्म   सूर्यवंशी को सिनेमाघरों तक पहुंचाने में लगभग 2 साल का इंतजार किया है। लेकिन सूर्यवंशी फिल्म को देखने के बाद आपको लगेगा की रोहित शेट्टी का   यह फैसला बिल्कुल सही था। 


रोहित शेट्टी के अंदाज वाली यह फिल्म उड़ती गलियां, हैरतअंगेज सींस, फ्रंट वेंचर्स को पसंद आने वाली कॉमेडी, रोमांस और एक्शन से भरपूर फिल्म है। पुलिस ऑफिसर सूर्यवंशी मतलब अक्षय कुमार और सिंघम उर्फ अजय देवगन सिंबा उर्फ रणबीर सिंह के कारनामों का देखने का असली मजा ओटीटी पर नहीं मिल सकता था। सिंघम और सिंबा की सुपर सफलता के बाद निर्माता निर्देशक रोहित शेट्टी का प्रेम और बढ़ गया। 


इसीलिए निर्माता निर्देशक रोहित शेट्टी एंटी टेररिज्म स्क्वाड के चीफ सूर्यवंशी के रूप में बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार को लेकर आए। रोहित ने दर्शकों को विजुअल ट्रीट से मालामाल करने के लिए उन्होंने सूर्यवंशी के साथ सिंघम और सिंबा को भी इस फिल्म में दिखाया है।

फिल्म की कहानी(film's story):-

सूर्यवंशी फिल्म की कहानी निर्माता-निर्देशक रोहित शेट्टी की है। जिसे उन्होंने वास्तविकता का टच देने के लिए सन 1993 के बम ब्लास्ट और पाकिस्तान के टेररिज्म से जोड़ दिया है। फिल्म में पुलिस अफसर सूर्यवंशी (अक्षय कुमार) एक ऐसा पुलिस वाला है जो अपने फर्ज को अपनी डॉक्टर बीवी रिया(कैटरीना कैफ) और अपने बेटे से भी आगे रखता है।


 वह अपने माता पिता को मुंबई बम ब्लास्ट में खो चुका है। और यही वजह है की इस मुंबई बम ब्लास्ट के मास्टरमाइंड बिलाल(कुमुद मिश्रा) और ओमर हाफिज(जैकी श्रॉफ) की तलाश है। जो मुंबई में अपराधिक कांड करके देश से फरार हो गए थे।


 इसी बीच पुलिस अफसर सूर्यवंशी को तहकीकात के दौरान कुछ ऐसे सूत्र हाथ लगते हैं। जिससे कि पता चलता है मुंबई बम ब्लास्ट कांड के दौरान मुंबई में 1000 किलो आर डी एक्स मुंबई लाया गया था। लेकिन मुंबई में 400 किलो आरडीएक्स का इस्तेमाल किया गया था। 600 किलो आरडीएक्स अभी भी मुंबई में कहीं छिपा है। तहकीकात के दौरान पुलिस अफसर सूर्यवंशी यह भी पता लगाने में कामयाब हो जाता है।


 कि पिछले 27 सालों से आतंकी संगठन लश्कर ने जिन स्लीपर सेल को देश के विभिन्न प्रदेशों में भेष बदलकर रख रखा है। उन्हें हरकत में लाकर मुंबई के 7 और भीड़-भाड़ वाले इलाकों मैं एक बार फिर पहले जैसा बम ब्लास्ट करने का प्लान बना रहे हैं।


 अगर ऐसा होता है तो मुंबई के चिथड़े उड़ जाएंगे। पुलिस अफसर सूर्यवंशी यह सब जान लेता है।  सिंघम और सिंबा की मदद से मुंबई पर आतंकी हमला होने से कैसे बचाता है। यह देखने के लिए आपको फिल्म  देखना पड़ेगी।


Review:-निर्माता निर्देशक रोहित शेट्टी की यह फिल्म पूरी तरह से मसाले से भरपूर है। रोहित ने इस फिल्म को मैसेज मैं रख कर बनाया है। फिल्म का फर्स्ट हाफ थोड़ा लंबा लगता है, लेकिन सेकंड हाफ में आप ऐसे मनोरंजन लॉन्ग ड्राइव पर पहुंच जाते हैं।


जहां पर हंसी, एक्शन, रोमांस सब कुछ मिलता है।रोहित शेट्टी ने अपनी फिल्म सूर्यवंशी में फसाद की जड़  पाकिस्तान और इलामिक टेररिज्म को बनाया है। दूसरी ओर हिंदू और मुसलमान की एकता भाईचारे के दृश्य डालकर बैलेंस करने की कोशिश की है। वास्तव में कुछ हिंदुस्तानी आतंकियों को खत्म करने की कोशिश कर चुके हैं। 


बल्कि जब कुछ मुस्लिम पुलिस ऑफिसर अपने फर्ज के खातिर जान देने को तैयार है। बम ब्लास्ट के एक दृश्य में मौलानाओं को गणपति की मूर्ति उठाते देखा गया है। और दूसरी ओर जितनी नफरत कसाब के लिए उतनी ही मोहब्बत कलाम के लिए जैसे डायलॉग फिल्म में रखे गए हैं। फिल्म में कुछ देर से बचकाना दिए जिन्हें कॉमेडी का रूप दिया गया है।


 हालांकि वह दृश्य हॉलीवुड से प्रेरित लगते हैं। लेकिन अपने बॉलीवुड के हीरो पर फिल्माए गए ऐसे दृश्य कुछ ज्यादा ही फिल्मी फील हो जाते हैं। अपने बॉलीवुड के सुपर को हीरोज और हीरोइन को स्पेशल बॉडी लैंग्वेज और डायलॉग देखकर रोहित को उसे यादगार बनाने की खूबी है। यहां पर पुलिस अफसर सूर्यवंशी द्वारा लोगों के गलत नाम पुकारने पर कॉमेडी दी गई है।


 फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर जबरदस्त है। फिल्म का क्लाइमैक्स दमदार और गुड फील होता है। फिल्म नगर संगीत की बात की जाए तो टिप टिप बरसा पानी और छोड़ो कल की बातें जैसे गानों को रीक्रिएट किया गया है। जो दर्शकों को खूब पसंद आ रहा है।


फिल्म में  एक्टिंग:-

फिल्म में अक्षय कुमार ने टॉप लेवल पर एक्टिंग की है। सूर्यवंशी फिल्म में अक्षय कुमार की हीरो के रूप में एंट्री और क्लाइमैक्स थर्रा देने वाले एक्शन सीन अक्षय यह सब डिलीवर करते नजर आए हैं। जो उनके फैंस की चाहत है उस पर वह खरे उतरे हैं। 


उनकी वह कॉमिक टाइमिंग जो लोगों को हंसाती है वही उनकी फिटनेस जो मारधाड़ वाले दृश्यों में उदय सुपर कॉप साबित करती है। कैटरीना कैफ अपने रोल में एकदम फिट नजर आई है। आईकॉनिक सोंग टिप टिप बरसा पानी में कैटरीना कैफ काफी सेक्सी और ग्लैमरस लगी है। सेकंड हाफ में जब अजय देवगन और रणवीर सिंह की एंट्री होती है।


 तो फिल्म में एक करंट सा दौड़ता है। सुपर स्टार्स की यह तिकड़ी एक्शन के साथ कॉमेडी को भी जोरदार बना जाती है। निर्माता निर्देशक रोहित शेट्टी की कास्टिंग दमदार है। जिसमें जैकी श्रॉफ कुमुद मिश्रा गुलशन ग्रोवर और अभिमन्यु सिंह निकेतन धीर जैसे एक्टर्स छोटी छोटी भूमिकाओं में अपना प्रभाव छोड़ने में कामयाब रहे हैं।

 

Post a Comment