गमले मैं भिंडी कैसे लगाएं। गमले में भिंडी की खेती कैसे करें।2022.

भिंडी की खेती कैसे करें गमले में



हेलो दोस्तों नमस्कार आज मैं अपनी इस पोस्ट में लेकर आया हूं आपके सामने गमले में भिंडी कैसे लगाएं या गमले में भिंडी की खेती कैसे करें।। गमले में भिंडी उगाने का तरीका। अगर आप भी अपने घर पर या घर के बगीचे में भिंडी उगाने की सोच रहे हैं तो यह पोस्ट आप ही के लिए हैं। आज हम आपको घर पर भिंडी उगाने का तरीका के बारे में बताएंगे आप हमारे द्वारा बताए गए तरीकों को फॉलो कर के गमले में या घर के बगीचे में भिंडी उगा सकते हैं। आज मैं आपको बताऊंगा के गमले में भिंडी कैसे लगाएं या फिर भिंडी की खेती कैसे करें। अगर आप इंटरनेट पर भिंडी की खेती के संबंधित जानकारी सर्च करते हैं। तो आज के बाद आपकी यह रिसर्च खत्म हो जाएगी। क्योंकि मैं आपको एक ऐसी सटीक जानकारी देने वाला हूं।मेरी यह पोस्ट पढ़कर आप इंटरनेट पर भिंडी की खेती की जानकारी और वगैरा-वगैरा सर्च करना बंद कर देंगे। जो भाई भिंडी से संबंधित जानकारी पाना चाहते हैं, वह हमारी पोस्ट को पूरा पढ़ें।

भिंडी कितने दिन में उगता है।

भिंडी कितने दिन में उगता है। इससे संबंधित जानकारी आप हमारे इस लेख में पाने वाले हैं। हम आपको अपनी वेबसाइट के माध्यम से भिंडी कितने दिन में उगता है। इसकी एकदम बिल्कुल सटीक जानकारी आपके सामने प्रस्तुत कर रहे हैं, ध्यान से पढ़ें।

भिंडी का पौधा उगाने के बाद लगभग 15 दिन के पश्चात भिंडी के पौधे पर फल आना शुरू हो जाता है। और भिंडी के पौधे पर करीब 45 दिन बाद भिंडी की पहली तुडाई शुरू हो जाती है। इसकी औसत पैदावार ग्रीष्म में 10 टन और खरीफ में लगभग 15 टन है।

गमले में भिंडी की खेती कैसे करें।

भिंडी कैसे लगाएं गमले में, गमले में भिंडी कैसे लगाएं


गमले में भिंडी की खेती कैसे करें। गमले में भिंडी की खेती करने का तरीका।

आज आप जानेंगे गमले में भिंडी की खेती कैसे करें। या फिर गमले में भिंडी की खेती करने का तरीका। भिंडी की खेती करने के लिए सबसे पहले आप ऐसे गमलों का चुनाव करें। जो लंबाई में भले ही कम हो लेकिन उनकी चौड़ाई ज्यादा हो। क्योंकि भिंडी का पौधा दूर तक अपनी जड़ों को फैलाता है। अगर आप भिंडी का पौधा गमले में लगाने की सोच रहे हैं। तो आपको जरूरत है,चौड़े गमले की। वैसे आजकल बाजार में भिंडी आसानी से मिल जाती है। लेकिन कहते हैं, ना विटामिन और प्रोटीन से भरपूर सब्जियों का स्वाद लेने के लिए। ताजा- ताजा सब्जी खाना हमारे शरीर के लिए काफी लाभदायक साबित हो सकती है। हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है, कि शरीर के लिए ताजा सब्जी का सेवन सर्वोत्तम है।  इसलिए अगर आप अपने घर के बगीचे या गमले में भिंडी का पौधा उगाना चाहते हैं।तो आप ताजा सब्जी का स्वाद ले सकते हैं। बाजार में ताजा सब्जी नहीं मिलती है। सब्जी पौधों से टूट कर 3 या 4 दिन के बाद हम तक पहुंचती है। जो एकदम फ्रेश नहीं होती और जिसको खाने में स्वाद नहीं होता है। इसलिए आप ताजा सब्जी खाने के लिए अपने घर के बगीचे या गमले में भिंडी का पौधा लगा सकते हैं।

घर पर भिंडी लगाने के लिए या गमले में भिंडी लगाने के लिए आप चौड़ा और बड़ा गमला लें।

गमले में मिट्टी को डालें और इसे कुछ देर के लिए धूप में रख दें।

अब भिंडी के बीज को गमले के अंदर बीच में अपनी उंगली के दबाव से मिट्टी में बीज को सुभो दें।

और मिट्टी को नम करने के लिए थोड़ा पानी डाल दें। ऐसा करके गमला धूप में रखें। कुछ दिन बाद भिंडी के बीज अंकुरित होना शुरू हो जाएंगे और लगभग 15 दिन बाद भिंडी के पौधे पर फलाना शुरू हो जाएंगे। इसके बाद करीब डेढ़ महीने का समय बीत जाने के बाद भिंडी का पहला फल टूटने के लिए तैयार हो जाएगा।

सबसे अच्छी भिंडी कौन सी होती है।

सबसे अच्छी भिंडी कौन सी होती है। इसकी संपूर्ण जानकारी आपको हमारे इसी लेख में होने वाली है। हम इस विषय पर चर्चा करेंगे कि सबसे अच्छी भिंडी कौन सी होती है।तो चलिए जानते हैं, सबसे अच्छी भिंडी के बारे में विस्तार से।

पूसा भिंडी-5 की प्रमुख विशेषताएं-यह भिंडी की सबसे अच्छी किस्म में से एक है। यह भिंडी की पीली नाडीमोजैक प्रजाति में से एक है।

वर्षा कालीन मौसम में इसकी पैदावार लगभग 18 टन प्रति हेक्टेयर है, और जायद मौसम यानी कि बसंत ऋतु में इसकी पैदावार 12 टन प्रति हेक्टेयर है।

इसके फल आकर्षक गहरे हरे रंग और पांच धारी वाले होते हैं। इनकी मध्यम लंबाई 10 से 12 सेंटीमीटर होती है।

भिंडी के बीज का रेट क्या है।

भिंडी के बीज का रेट अलग-अलग शहरों में कम या ज्यादा होता है। हाइब्रिड भिंडी के बीज थोड़े महंगे होते हैं। जिनकी कीमत बाजार में 1400 सो रुपए प्रति किलो से लेकर ₹2000 प्रति किलो तक होती है।

वहीं आ गए हाइब्रिड भिंडी की तुलना में देसी भिंडी की बात करी जाए तो यह बहुत सस्ती होती है देसी भिंडी ₹200 प्रति किलो से लेकर 650 प्रति किलो तक होती हैं जो हाइब्रिड भिंडी की तुलना में बहुत ही कम है।

Post a Comment