तस्लीम आरिफ सैदपुर बदायूं की आवाज में आज हम आपको हालाते कब्र मौत का मंजर के बारे में विस्तार से बताने वाले हैं। तस्लीम आरिफ सैदपुर बदायूं को शायद ही कोई ऐसा होगा जो नहीं जानता होगा। हिंदुस्तान के मशहूर कव्वाली और बाकी है, के सिंगार तस्लीम आरिफ बहुत ही बुलंद और अच्छी आवाज के साथ कव्वाली सुनाते हैं।

आज मैं अपने इस लेख के माध्यम से आपके सामने लेकर हाजिर हुआ हूं, हाजी तस्लीम आरिफ सैदपुर बदायूं के द्वारा गाई गई कव्वाली। इस कव्वाली में संगीत दिया है, राजू खान ने अल्फाज है, कारी अनवर आलम साहब के।

हालात एक कब्र मौत का मंजर कव्वाली अगर आप ने नहीं सुनी और देखी है तो हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से हालाते कब्र मौत का मंजर सुनाने वाले हैं।

हाजी तस्लीम आरिफ सैदपुर बदायूं की आवाज में कव्वाली और वाक्या लेकर आज हाजिर है, हम आपके सामने। साहिबान और हजरत में हाजी तस्लीम आरिफ सैदपुर बदायूं की आवाज में कव्वाली नहीं सुनी है। उन हजरात से मेरी दरख्वास्त है, कि एक बार हाजी तस्लीम आरिफ सैदपुर बदायूं की आवाज में हालाते कब्र मौत का मंजर कव्वाली जरूर सुने।

हालाते कब्र मौत का मंजर कव्वाली/हाजी तस्लीम आरिफ सैदपुर बदायूं की आवाज में।



आपने ऊपर देखा वीडियो में हलाते का प्रमोद का मंजर बयां किया है तस्लीम आरिफ सैदपुर बदायूं ने जो हिंदुस्तान के मशहूर फनकार है।

हाजी तस्लीम आरिफ सैदपुर बदायूं ने अपनी आवाज में कव्वाली वाक्य बयान कर्बला आदि के बयान बहुत ही बेहतरीन अंदाज में बयां किए हैं। जिन्हें पूरा हिंदुस्तान या यूं कहा जाए कि पूरे भारत में बहुत ही प्यार से लोग सुनते हैं, और इनकी आवाज के लोग कायल हो चुके हैं।

अगर आपने आज से पहले कभी हाजी तस्लीम आरिफ सैदपुर बदायूं की आवाज में कोई कव्वाली बयान वाकिया आदि नहीं सुने हैं तो आज आप हलाते कब्र मौत का मंजर सुनकर हाजी तस्लीम आरिफ की आवाज को सुन सकते हैं।

और इस बात को कि हाजी तस्लीम आरिफ की आवाज में कितनी सच्चाई है, यह आप खुद ही देख सकते हैं। हाजी तस्लीम आरिफ वाकई बहुत अच्छे कव्वाल और फनकार है। उनकी आवाज के दीवाने हिंदुस्तान में नहीं बल्कि विदेशों में भी उनकी आवाज सुनना बहुत पसंद करते हैं।

दोस्तों अगर आपको मेरी द्वारा  दी गई यह जानकारी पसंद आई हो तो मेरे इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करो। धन्यवाद।

Post a Comment