Republic Day (गणतंत्र दिवस):- देश में गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है। इस बार  देश का 73 वा गणतंत्र दिवस 26 जनवरी 2022 को मनाया जाएगा। क्या है, इसको मनाने की खास वजह इन सभी सवालों का जवाब हम आपको अपने इसी आर्टिकल में देने वाले हैं। 26 जनवरी भारत देश में एक राष्ट्रीय पर्व के तौर पर मनाई जाती है। 26 जनवरी सन 1930 को क्या हुआ था।

26 जनवरी सन 2022.



जो भारत में 26 जनवरी इतने धूमधाम से मनाई जाती है। कई ऐसे सवाल है जिनका जवाब शायद आपको मालूम ना हो लेकिन हम आपको उन सभी सवालों का जवाब अपने इस आर्टिकल में देने वाले हैं। उम्मीद करता हूं हमारा ही आर्टिकल पढ़कर आपको अपने सवालों का जवाब मिल जाएगा।


26 जनवरी को दिल्ली में क्या हुआ था।, भारत देश में 26 जनवरी और 15 अगस्त क्यों मनाया जाता है।, भारत के राष्ट्रीय पर्व 26 जनवरी और 15 अगस्त में क्या अंतर है। इन सभी सवालों का जवाब हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से देने वाले हैं।

दिल्ली में 26 जनवरी 2022 का जश्न।


26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) का भारतीय इतिहास -   26 जनवरी गणतंत्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है। जो भारत में प्रत्येक वर्ष जनवरी महीने की 26 तारीख को मनाया जाता है। 26 जनवरी सन 1930 को इसलिए चुना गया था। क्योंकि इसी दिन भारत को पूर्ण स्वराज घोषित भारतीय कांग्रेस पार्टी ने किया था। 26 जनवरी या गणतंत्र दिवस भारत के 3 राष्ट्रीय छुट्टियों में से एक है व अन्य 15 अगस्त और गांधी जयंती 2 अक्टूबर है।

26 जनवरी के दिन ही सन 1950 को भारत सरकार अधिनियम 1935 को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया था। एक स्वतंत्र गढ़ राज्य बनने और भारत मैं कानून का राज्य स्थापित करने के लिए 26 नवंबर सन 1949 को भारतीय संविधान द्वारा अपनाया गया था। और 26 जनवरी सन 1950 को इसे लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ भारत में लागू किया गया।

26 जनवरी और 15 अगस्त भारत में क्यों मनाया जाता है।

26 जनवरी के शुभ अवसर पर दिल्ली में परेड


26 जनवरी और 15 अगस्त भारत में क्यों मनाया जाता है यह आपको हमारा यह लेख पढ़कर समझ आ जाएगा कि यह दो पर्व पूरा भारत बड़ी धूमधाम से क्यों मनाता है। चलिए जानते हैं 26 जनवरी और 15 अगस्त को संपूर्ण भारत क्यों मनाता है।

भारत को आजादी भले ही 15 अगस्त सन 1947 को मिली हो। लेकिन 26 जनवरी सन 1950 को भारत संपूर्ण राज्य बना। इसलिए ही भारत 26 जनवरी के दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाता है। भारत का संविधान 26 नवंबर सन 1949 को पूर्ण रूप से बनकर तैयार हो गया था। लेकिन 2 महीने का इंतजार करने के बाद 26 जनवरी सन 1950 को भारत का संविधान लागू किया गया। 2 महीने का इंतजार क्यों किया गया आपके इस सवाल का जवाब भी हम नीचे देने वाले हैं जानने के लिए हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

संविधान को लागू करने के लिए 26 जनवरी सन 1950 की तारीख को इसलिए चुना गया क्योंकि इसी दिन 26 जनवरी सन 1930 को भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ पूर्ण स्वराज का ऐलान किया था।

भारत देश के गणतंत्र की यात्रा कई सालों पुरानी है जो 26 जनवरी सन 1930 से शुरू हुई थी।और 26 जनवरी सन 1950 पर आकर खत्म हुई। इसलिए ही 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। हमारा भारत देश 15 अगस्त सन 1947 को आजाद (स्वतंत्र) हुआ था। इसलिए भारत में आजादी की खुशी के लिए 15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है।


उम्मीद करता हूं हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी अगर आपको पसंद आई है,तो हमारे इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। और हमारी वेबसाइट की नोटिफिकेशन को पुश करके एलाऊ करें। ताकि हमारी वेबसाइट पर जब भी कोई नई पोस्ट पब्लिश हो तो उसकी नोटिफिकेशन आपको सबसे पहले मिले। मैं आपका दोस्त अमीर अहमद अपनी वेबसाइट Hindi Guru पर आपके लिए ऐसी ही ऐतिहासिक न्यूज़ लेकर आता रहूंगा तब तक के लिए धन्यवाद।


Post a Comment