पीली ततैया के काटने का इलाज इन हिंदी




पीली ततैया के काटने पर क्या लगाएं। पीली ततैया के काटने पर हमें क्या लगाना चाहिए आज हम आपको पीली ततैया के काटने पर क्या लगाना चाहिए इस बारे में विस्तार से बताने वाले हैं। ततैया एक ऐसा जीव है जो बहुत ही सीधा है। ततैया सीधा है लेकिन इसके डंक में एक ऐसा अम्ल पाया जाता है जो हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाता है जिससे हमारे शरीर के अंदर सूजन और दर्द होने लगता है ततैया के डंक मारने से शरीर में 3 दिन तक सूजन और दर्द बरकरार रहता है। जिसकी वजह से काफी मानव जाति को नुकसान उठाना पड़ता है। ततैया कई प्रकार की होती हैं। लेकिन आज हम आपको कुछ इसकी मुख्य प्रजातियों के बारे में बताने वाले हैं। 

ततैया की प्रजाति निम्न है-

1. पीली ततैया, 2. लाल ततैया, 3. काली-पीली ततैया आदि।



ततैया के काटने और डंक मारने पर क्या लगाएं।

ततैया के काटने और डंक मारने वाले स्थान पर बेकिंग सोडा लगाएं या फिर साबुन से धोएं। क्योंकि ततैया के डंक में फार्मिक एसिड की उपस्थिति होती है। इसलिये ततैया के डंक मारने वाले स्थान पर सूजन और दर्द को कम करने के लिए पानी में भिगोकर एक गिला कपड़ा उस स्थान पर रख लें। ऐसा करने से सूजन और दर्द कम होगा और बहुत ही जल्द आपको आराम मिलना शुरू हो जाएगा।

ततैया के डंक में क्या होता है।

ततैया के ढंक से निकलने वाले जहर में केमिकल एमपी वन होता है।जैसे ही ततैया किसी को काटती है, तो इसके ढंक में मौजूद केमिकल एमपी वन कैंसर सेल्स की लिपिड मेंब्रेस या बसा झिल्ली पर अटैक करता है। ऐसे में अटैक करते ही कैंसर सेल्स पंक्चर होते ही डेड हो जाती है। इसलिए ही ततैया के ढंक से हमारे शरीर के काटने वाले हिस्से पर सूजन और दर्द होने लगता है।

ततैया के काटने पर घरेलू नुस्खो से उपचार।

ततैया के काटने से दर्द सूजन और जलन होना शुरू हो जाती है। पीली ततैया के काटने पर घबराने की जरूरत नहीं है। हम लेकर आए हैं, कुछ घरेलू नुस्खे जिनकी मदद से ततैया के काटने पर नुस्खों को अपनाकर कर ततैया के काटने पर आराम पा सकते हैं। आइए जानते हैं, वह कौन से घरेलू नुस्खे हैं। जिनकी मदद से ततैया के काटने पर आराम मिलता है।


ततैया के काटने वाली जगह पर करें ठंडी सिखाई


ठंडी सिकाई।

ततैया के काटने पर दर्द सूजन और जलन से तुरंत आराम पाने के लिए ठंडी सिकाई बहुत ही अच्छा विकल्प है। जब ततैया काट ले तो उसके काटने वाली जगह पर ठंडे पानी या बर्फ के टुकड़ों को कपड़े में रखकर उस स्थान की सिकाई करें। जहां पर ततैया का डंक लगा हो। ऐसा दिन में कम से कम 3 या 4 बार करें। दर्द सूजन और जलन से बहुत ही जल्द आराम मिल जाएगा। यह नुस्खा बहुत ही पुराना है, और प्राचीन समय से ही प्रचलित है।


बेकिंग सोडा से ततैया के काटने का इलाज।

ततैया के काटने पर बेकिंग सोडा से करें इलाज


बेकिंग सोडा ततैया के काटने और उसके ढंक के लिए बहुत ही प्रभावीशील और प्राकृतिक उपचार है। बेकिंग सोडा की क्षारीय प्रकृति डंक को बेअसर करती है।

बेकिंग सोडा दर्द और खुजली में तुरंत राहत प्रदान करता है।

इसके अलावा इसमें मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण सूजन दर्द और लालीमा को कम करने में मदद करता है। जब भी यह समस्या आपके सामने आ जाए तब एक चम्मच बेकिंग सोडा और उसमें थोड़ा पानी मिलाकर पेस्ट बना लें।


और जब भी ततैया काट ले तब उस स्थान पर बेकिंग सोडा पेस्ट लगाएं। बेकिंग सोडा लगाकर 10 से 15 मिनट तक ऐसे ही रहने दें।

और इसके बाद गुनगुने पानी से धो दें। दिन में दो या तीन बार करने पर ततैया के काटने वाले स्थान पर बहुत ज्यादा सुकून मिलेगा। बेकिंग सोडा प्राचीन समय से ही प्रचलित में और बहुत ही ज्यादा फायदा मिलता है, इसके प्रयोग करने से।


सिरके से ततैया का काटने का उपचार।

सिरके में मौजूद एसिटिक एसिड में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण सूजन और दर्द में आराम करते हैं। सिरका साथ ही साथ ततैया के विष को बेअसर करने में बहुत ही सक्षम है। इसलिए ततैया के काटने पर तुरंत ही उस स्थान पर सिरका लगा देना चाहिए। इससे ततैया का जो विष होगा वह बेअसर हो जाएगा। और दर्द और सूजन में बहुत आराम होगा।


Post a Comment