एक सकारात्मक सोच (positive thinking)  जीवन बदल सकती है।









यह सच है, दोस्तों जीवन में कौन आगे बढ़ना नहीं चाहता है। लेकिन दोस्तों आगे बढ़ने के लिए सबसे अहम बात होती है, हमारे लिए सकारात्मक सोच।
जीवन एक संघर्ष का नाम है। जो जीवन में संघर्ष करता है, वह आगे बढ़ता है। इतिहास गवाह है कि जिसने भी संघर्ष किया है वह जीवन में आगे बढ़ा है। संघर्ष नहीं वहां जीवन नहीं हमें हर क्षण अपने अस्तित्व के लिए तथा अपने विकास के लिए संघर्ष करना पड़ता है। 

जीवन हमेशा चलते रहने वाले प्रवाह के समान है। जिसमें सुख दुख दोनों साथ साथ चलते हैं। जीवन में सुख दुख कभी खत्म न होने वाला चक्कर है। जो हमारे पिछले कर्मों पर आधारित है। जिस कारण इसमें बच पाना हमारे लिए संभव है।

परंतु हम अपनी सकारात्मक सोच के जरिए ऐसी परिस्थितियों का सामना ठीक प्रकार से कर सकते हैं। सिर्फ सकारात्मक सोच हमारा जीवन भी तबा कर सकती है।भगवान महावीर स्वामी जी ने कहा है कि-

"जो व्यक्ति सकारात्मक सोच रखता है वही
 जीवन में मोक्ष को प्राप्त कर सकता है।।"

हम अपने दिमाग को आशावादी बनाकर सकारात्मक बना सकते हैं जिस प्रकार हम किसी काम को करना सीखते हैं। बस उसी तरह हमारा दिमाग भी उन्हीं आदतों की पुनरावृत्ति करता है।जो हम सोचते हैं, हमारी सोच ही हमारे जीवन का निर्धारण करती है।

अगर हम अपने जीवन में कामयाब होना चाहते हैं। क्योंकि सकारात्मक सोच वाला व्यक्ति समस्याओं के बारे में नहीं बल्कि उसके समाधान के बारे में ही सोचता है। वह अपनी कमियों के स्थान पर अपनी सफलताओं, क्षमताओं तथा योग्यताओं के बारे में सोचता है।


जो उसे जीवन में संघर्षों को स्वीकारने की क्षमता प्रदान करता है।

सकारात्मक सोच ही हमारे आत्मविश्वास में वृद्धि करती है। और आत्मविश्वास हमें कुछ कर गुजरने का साहस उत्पन्न कराता है। कई लोग अपनी पिछली बातें याद कर परेशान हो जाते हैं। और अपने आसपास नकारात्मक माहौल बना लेते हैं।

ऐसे माहौल में ना तो वे स्वयं कार्य कर पाते हैं। और ना ही अन्य लोग।नकारात्मक सोच हमारे रिश्तो में भी तनाव उत्पन्न करती हैं।

इसलिए दोस्तों हमें नाकारा नकारात्मक सोच से बचने का प्रयास करना चाहिए और हमेशा सकारात्मक सोचना चाहिए।

स्वामी विवेकानंद जी ने भी कहा है कि-"हम वह हैं जो हमारी सोच ने हमें बनाया है इसलिए इस बात का ध्यान रखिए कि आप क्या सोचते हैं। शब्द गौण हैं, विचार दूर तक यात्रा करते हैं। 

अगर अगर हम अपने विचारों में सकारात्मक बातें ही बोले। तो हमें सफल आदमी बन सकते हैं। क्योंकि शब्दों में बहुत ताकत होती है सकारात्मक सोच लाने के 5 मूल मंत्र आज हम आपको बताने वाले अपने इसी लेख के माध्यम से।

सकारात्मक सोच लाने के 5 मूल मंत्र।
.
1.विश्वास रखे खुशी एक विकल्प है जिसे अपने लिए आप खुद चुन सकते हैं।
2.नकारात्मकता से भरी जिंदगी से दूर रहे।
3.हर परिस्थिति में सकारात्मकता खोजें।
4.अपने अंदर सकारात्मक भावनाओं को मजबूत करें।
5.अपनी खुशियों को दूसरों के साथ साझा करें।

Post a Comment