रामपुर के रामपुरी चाकू का इतिहास हिंदी में।

रामपुरी चाकू का परिचय हिंदी में, रामपुरी चाकू हिस्ट्री इन हिंदी


रामपुर-रामपुर शहर की आन बान और शान कहलाने वाला रामपुरी चाकू आज हो चुका है गुमनाम। रामपुर शहर नवाबों के शहर से जाना जाता है। भारत में बिक्री के लिए रामपुरी चाकू, चाकू कितने प्रकार के होते हैं, रामपुरी चाकू की लंबाई, रामपुरी चाकू की कीमत, रामपुरी चाकू दिखाओ, रामपुरी चाकू ऑनलाइन। आदि सवालों का जवाब आपको हमारे इसी लेख में मिलने वाला है जानने के लिए बने रहिए हमारे इस आर्टिकल पर। प्राचीन समय में रामपुर नवाबों का शहर हुआ करता था ।यहां नवाब की रियासत थी। और यहां का चाकू बहुत मशहूर हुआ करता था, लेकिन आज वह नाम गुमनाम हो चुका है, जिस नाम से रामपुर शहर का चाकू जाना जाता था। जी हां उस चाकू का नाम 90 के दशक की फिल्मों में भी विलन खूब लेते थे। चाकू को 90 के दशक की फिल्मों व रियल लाइफ जिंदगी में भी लोग रामपुर शहर के चाकू को रामपुरी चाकू कहते थे। जो आज यह नाम बिल्कुल गुमनाम हो चुका है। 


पुरापाषाण काल के छोटे पत्थर से बने ब्लेडस और आज के स्टील से बने चाकू छुरी वह तलवार तक बनाने की तकनीक ने कई पड़ाव को पार किया है। पत्थर से बने ब्लेड, स्टील से बने चाकू छुरी और लोहे से बने तलवार खंजर आदि भारत के इतिहास के हर काल को दर्शाते हैं।


रामपुरी चाकू भारत के इतिहास के पन्नों में हमेशा- हमेशा के लिए दर्ज हो चुका है। रामपुर शहर का रामपुरी चाकू का कुछ समय पहले तक प्रयोग किया जाता था। लेकिन आज वर्तमान में चाकू का प्रयोग नहीं किया जाता है।


रामपुरी चाकू का परिचय हिंदी में:-

रामपुरी चाकू का परिचय हिंदी में







रामपुर शहर का रामपुरी चाकू गुरुत्वाकर्षण तकनीक से बनाया हुआ तेज धार वाला हथियार है। इसमें पीछे हैंडल की ओर एक बटन होता है।अगर आप उस बटन को दबा देते हैं। तो धार वाला हिस्सा हत्था से बाहर निकल आता है। इस चाकू के नाम से ही पता चलता है की यह चाकू सर्वप्रथम रामपुर शहर में ही बना था। जो कि नवाबों की रियासत हुआ करता था। 

और इस शहर को नवाबों का शहर रामपुर व कई अन्य शहरों में रामपुर शहर को रामपुर स्टेट के नाम से भी जाना जाता है। लेकिन आज वर्तमान में यह शहर जिला है जो मुरादाबाद और बरेली शहर के बीच में स्थित है। जिला रामपुर का आरटीओ (R.T.O) नंबर (UP.)यूपी 22 है।


रामपुर नवाबी रियासत के दरबारी लोहकारो ने रामपुरी चाकू बनाना शुरू किया था। शुरुआत में रामपुरी चाकू 9 से 12 इंच तक बनाया जाता था। रामपुरी चाकू की धार एक तरफ होती थी। सबसे ज्यादा आकर्षित रामपुरी चाकू का हत्था होता था। जिस पर कुछ विशेष प्रकार की कारीगरी रामपुर के चाकू के कारीगरों द्वारा की जाती थी।हत्थे की गई कारीगरी और बटन दबाकर चाकू का खुलना ही रामपुरी चाकू की शान थी। रामपुर के रामपुरी चाकू की प्रसिद्धि में यह दो अहम मुद्दे थे।


रामपुर के रामपुरी चाकू को हमारे भारतीय सिनेमा ने प्रसिद्ध कराने में अहम भूमिका निभाई। सन 1970 से 1990 के दौर की बॉलीवुड फिल्मों में रामपुर शहर के रामपुरी चाकू को खलनायक के पसंदीदा हथियार के रूप में प्रस्तुत किया।


सन 1990 में उत्तर प्रदेश सरकार ने आर्म्स एक्ट 1959 के तहत रामपुर शहर के रामपुरी चाकू के इस्तेमाल पर पाबंदी लगा दी। और साथ में ही उसकी लंबाई 4.5 इंच से ज्यादा पर रोक लगा दी। आज वर्तमान में चाकू बनाने और अपने पास रखने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से लाइसेंस प्राप्त करना जरूरी है। अगर कोई व्यक्ति उत्तर प्रदेश सरकार से लाइसेंस नहीं लेता है। और हथियार अपने पास रखता है। तब उस पर आर्म्स एक्ट 1959 के अनुसार कानूनी कार्रवाई करने का प्रावधान है। 


रामपुर शहर के रामपुरी चाकू पर उत्तर प्रदेश सरकार की पाबंदी लगाने की वजह से रामपुरी चाकू की लोकप्रियता पर बहुत ज्यादा असर पड़ा। धीरे धीरे रामपुर शहर से रामपुरी चाकू लुप्त होते चले गए। यही वजह रही की रामपुर शहर के रामपुरी चाकू बनाने वाले कारीगर भी लुप्त हो गए। आज वर्तमान में रामपुर शहर में चाकू बनाने वाले कारीगर 2-से 3 कारीगर ही बचे हैं।


रामपुर शहर के मशहूर कारीगर जुबेर खान आज भी जिंदा है, जो 110 वर्ष के हो चुके हैं। हमने उनसे मिलकर बातचीत की और रोने रामपुरी चाकू की कुछ खास विशेषताएं हमें बताई। जो हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बता रहे हैं।


दोस्तों रामपुर का रामपुरी चाकू इतना प्रसिद्ध हो चुका था। कि अगर आपके मन में चाकू का विचार आ जाए तो सबसे पहले जहन में रामपुरी चाकू ही आता था। और आज भी आता है। लेकिन इसकी प्रसिद्ध व लोकप्रियता आज वर्तमान में कम हो चुकी है। मैं आपको पहले भी बता चुका हूं कि हमारे भारतीय सिनेमा ने रामपुरी चाकू को लोकप्रियता दिलाने में बहुत ज्यादा सहयोग व योगदान दिया है।


भारतीय हिंदी सिनेमा के चर्चित अभिनेता राजकुमार का यह डायलॉग की "जानी यह रामपुरी है लग जाए तो खून निकल आता है"।

Post a Comment