चेहल्लम 2023 में कब है, Chehallam 2023 me kab hai in hindi. क्यों मनाते हैं चेहल्लम का त्यौहार।

चेहल्लम 2022 में कब है।


चेहल्लम 2023 में कब है, कब है चेहल्लम 2023 मे बहुत सारे हमारे इस्लामी भाई इस बात को इंटरनेट पर सर्च करते रहते हैं। और उनकी इसी सर्च को मध्य नजर रखते हुए आज हम अपने इस पोस्ट को लिख रहे हैं।

चेहल्लम 2023 में कब है, इसके बारे में विस्तार से पूरी जानकारी आपको हमारे इस आर्टिकल में मिलने वाली है। चेहल्लम का त्यौहार क्यों मनाया जाता है। चिलम का त्योहार आशुरा के 40 दिन बाद मनाए जाने वाला त्यौहार है।

मोहर्रम यानी कि आशूरा मोहम्मद मुस्तफा के नवासे हजरत इमाम हुसैन इब्ने अली की याद दिलाता है जो कि मोहर्रम महीने की 10 तारीख को शहीद हुए थे।

चेहल्लम का त्यौहार किसकी याद में मनाया जाता है।

मोहर्रम यानी कि आशुरा और चेहल्लम का त्यौहार हजरत मोहम्मद उर रसूल अल्लाह सल्लल्लाहो ताला अलेही वसल्लम के नवासे हजरत हुसैन इब्ने अली की शहीदी के सिलसिले में मनाया जाता है।

इमाम हुसैन इब्ने अली हैदर और उनके 72 साथी यजीद की सेना ने कर्बला में शहीद कर दिए थे। जोगी मोहर्रम की 10 तारीख को शहीद हुए थे। और तब से ही मोहर्रम महीने की 10 तारीख को पूरे भारत में शिया और सुन्नी ताजिया बनाकर हजरत इमाम हुसैन इब्ने अली की याद में आशुरा का त्यौहार मनाते हैं।

चेहल्लम 2023 में कब है।

चेहल्लम 2023 में कब है, इसके बारे में लोग इंटरनेट(गूगल) पर सर्च करते रहते हैं। चेहल्लम का त्यौहार जोकि आशूरा के 40 दिन बाद मनाया जाता है। इस बार 2023 में चेहल्लम का त्यौहार 06 सितंबर दिन बुधवार को मनाया जाएगा।

चेहल्लम का त्यौहार मोहर्रम यानी कि आशूरा के 40 दिन बाद मनाया जाता है, जिसे हम एक तरीके से 40 वां भी कहते हैं।

यह त्योहार भारत ही नहीं बल्कि अन्य देशों में भी बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। भारत व अन्य देशों में इस त्यौहार को मनाने वाले शिया और सुन्नी दोनों ही समुदाय के लोग होते हैं। इराक के कर्बला शहर स्थित इमाम हुसैन का मकबरा है, जहां पर लोग मिलियन की तादात में इकट्ठा होते हैं।

मक्का और मदीना के बाद शिया मुस्लिम, सुन्नी मुस्लिमों के लोगों के लिए इराक का कर्बला शहर में स्थित इमाम हुसैन का मकबरा दूसरा सबसे बड़ा तीर्थ स्थान है। यहां पर अरबों की तादात में आज शोला और शबनम के दिन लोग इकट्ठा होते हैं। और इन के मकबरे पर एकत्रित लोग दुआएं मांगते हैं और इनकी दुआएं बहुत ही जल्द अल्लाह ताला इमाम हुसैन इब्ने अली के वसीले से कुबूल फरमाता है।






Post a Comment