समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने 82 साल की उम्र में ली आखिरी सांस, उनकी मौत से उनके पैतृक गांव सैफई और संपूर्ण प्रदेश में पसरा मातम।

0

समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने 82 साल की उम्र में ली आखिरी सांस, उनकी मौत से उनके पैतृक गांव सैफई और संपूर्ण प्रदेश में पसरा मातम।

सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव का 82 साल की उम्र में निधन


समाजवादी पार्टी के संस्थापक और कद्दावर नेता मुलायम सिंह यादव का 82 साल की उम्र में सोमवार को निधन हो गया। मुलायम सिंह यादव को यूरिन संक्रमण ब्लड प्रेशर और सांस लेने की तकलीफ में गुरु ग्राम के मेदांता अस्पताल में 2 अक्टूबर को भर्ती कराया गया था। शुरुआत से ही मुलायम सिंह यादव की तबीयत नाजुक बनी हुई थी। और इसी के चलते उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव का दिनांक 10 अक्टूबर यानी कि आज 82 साल की उम्र में उनका देहांत हो गया। उनके पार्थिव शव को एंबुलेंस के माध्यम से सैफई ले जाया जा रहा है। कहने का मतलब है कि दिल्ली के हाईवे से मुलायम सिंह यादव के पार्थिव शव एम्बुलेंस में गाड़ियों के काफिले के साथ उनके पैतृक गांव ले जाया जा रहा है।

11 अक्टूबर दिन मंगलवार को उनके पार्थिव शरीर को मुखाग्नि देकर फूंक दिया जाएगा। देश के तमाम राजनेताओं ने मुखिया जी की मृत्यु पर शोक जताया है। उधर उत्तर प्रदेश सरकार ने नेताजी की मृत्यु पर 3 दिन का राजकीय शोक घोषित किया है।

राष्ट्रपति और पीएम नरेंद्र मोदी ने जताया दुख।

राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू और पीएम नरेंद्र मोदी ने नेताजी की मौत पर जताया दुख। सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव यह संसार छोड़ कर जा चुके हैं लेकिन उनकी पार्टी के कार्यकर्ता और उनके चाहने वालों में शोक की लहर दौड़ गई है। मथुरा टोल प्लाजा पर जब उनकी गाड़ियों का काफिला रुका तो वहां उनके समर्थकों की भीड़ लग गई। और इस भीड़ में सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव की मौत का उनके समर्थकों ने भारी शोक जताया। 

पीपीएम नरेंद्र मोदी सहित अन्य राजनेताओं ने अस्पताल पहुंचकर नेताजी का जाना हाल।

सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव को अस्पताल में भर्ती कराने के बाद से ही राजनेताओं का मिलने का सिलसिला जारी था। 9 अक्टूबर दिन रविवार को रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया नेताजी से मिलने मेदांता अस्पताल पहुंचे थे। वहीं इससे पहले आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह और भारतीय जनता पार्टी के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह नेताजी का हाल जानने के लिए गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल पहुंचे थे। 

पीएम नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव से बातचीत कर कहा था, की हर संभव  मदद और सहायता देने के लिए हम तैयार हैं। जब भी हमारी जरूरत महसूस हो तो हमें याद कर लेना। जैसा कि आप सभी जानते हैं मुलायम सिंह यादव उत्तर प्रदेश के तीन बार मुख्यमंत्री रहे हैं।

मुलायम सिंह यादव का कैरियर और जीवन परिचय।

मुलायम सिंह यादव का जन्म एक किसान परिवार में हुआ था। इनके पिता शुघर सिंह यादव पेशे से एक किसान थे। मुलायम सिंह का जन्म 22 नवंबर सन 1939 को मैनपुरी जिले के सैफई गांव में हुआ था। मुलायम सिंह यादव मैनपुरी सीट से मौजूदा लोकसभा सांसद थे। मुलायम सिंह यादव की चर्चा, उत्तर प्रदेश की राजनीति हो या राष्ट्रीय राजनीती मुलायम सिंह यादव के गिनती बड़े नेताओं में होती थी। सपा मुखिया वा नेताजी मुलायम सिंह यादव उत्तर प्रदेश के तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं और केंद्र सरकार से एक बार रक्षा मंत्री भी रहे हैं। इसके अलावा मुलायम सिंह यादव 8 बार विधायक और 7 बार लोकसभा सांसद भी चुने जा चुके हैं।


मुलायम सिंह यादव ने कितनी शादियां की थी और उनके कितने बच्चे हैं।

मुलायम सिंह यादव ने दो शादियां की थी। उनकी पहली पत्नी का नाम मालती देवी था। जिनकी मृत्यु मई 2003 में हुई थी, जो पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की मां थी। और उनकी दूसरी पत्नी का नाम साधना गुप्ता था। साधना गुप्ता और मुलायम सिंह के बेटे का नाम प्रतीक यादव है। साधना गुप्ता की अभी हाल ही में इसी अस्पताल यानी कि गुरुग्राम मेदांता अस्पताल में ही मृत्यु हुई थी।

समाजवादी पार्टी का गठन किसने और कब किया था।

समाजवादी पार्टी का गठन 1992 में मुलायम सिंह यादव ने किया था। अपने जीवन में जो राजनीति करियर बनाया वह अभी तक किसी नेता ने नहीं बनाया है। आइए उनके करियर पर एक नजर डालते हैं।

मुलायम सिंह यादव का 5 दशक का राजनीति करियर,


1967, 1974, 1977, 1985, 1989, 1991, 1993 और 1996- 8 बार विधायक रहे. 

  • 1977 में उत्तर प्रदेश सरकार में सरकारी और पशुपालन मंत्री रहे। लोकदल उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष भी रहे।
  • 1980 में जनता दल प्रदेश अध्यक्ष रहे। 
  • 1982-85- विधानपरिषद के सदस्य रहे।
  • 1985-87- उत्तर प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता रहे।
  • 1989-91 में उत्तर प्रदेश के सीएम रहे।
  • 1992 में समाजवादी पार्टी का गठन किया।
  • 1993-95- उत्तर प्रदेश के सीएम रहे।
  • 1996- सांसद बने।
  • 1996-98-  रक्षा मंत्री रहे।
  • 1998-99 में दोबारा सांसद चुने गए।
  • 1999 में तीसरी बार सांसद बन कर लोकसभा पहुंचे और सदन में सपा के नेता बने। 
  • अगस्त 2003 से मई 2007 में उत्तर प्रदेश के सीएम बने।
  • 2004 में चौथी बार लोकसभा सांसद बने।
  • 2007-2009 तक यूपी में विपक्ष के नेता रहे।
  •  मई 2009 में 5वीं बार सांसद बने।
  • 2014 में 6वीं बार सांसद बने।
  •  2019 से 7वीं बार सांसद थे।


एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)