Kartik month 2022 festival, कार्तिक क्यों नहलाया जाता है,जाने इसके बारे में।

0

Kartik month 2022 festival, कार्तिक क्यों नहलाया जाता है,जाने इसके बारे में।

कार्तिक स्नान 2022 कब से है


Kartik month 2022 festival:-आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कार्तिक माह 10 अक्टूबर 2022 से शुरू हो गया है और इसका समापन 8 नवंबर 2022 को होगा। सनातन धर्म यानी कि हिंदू धर्म में कार्तिक माह को बहुत ही पवित्र महा माना जाता है।

हिंदू धर्म में स्नान दान पुण्य कर्म वा धार्मिक अनुष्ठान आदि के लिए कार्तिक माह को बहुत ही पवित्र महा माना गया है। संसार के जगत पालनहार श्री हरि विष्णु भगवान को कार्तिक महा अति प्रिय है। 


यह चातुर्मास का चौथा महीना कहलाता है। जिसमें देवउठनी एकादशी पर श्री हरि भगवान विष्णु गहरी नींद से जागते हैं। श्री हरि भगवान विष्णु के नींद से जागने पर फिर सारे शुभ कार्यों की शुरुआत हो जाती है।

10 अक्टूबर 2022 यानी कि आज से कार्तिक माह की शुरुआत हो चुकी है। और आपकी जानकारी के लिए बताया जा रहा है कि इसका समापन नवंबर 2022 को होगा। 


विधि शास्त्रों के अनुसार यह महीना महिलाओं के व्रत के लिए बहुत ही योग्य है। इस माह में नक्षत्र,ग्रह,योग तिथि पर्व का क्रम,धन, उत्तम स्वास्थ्य आदि का निवास होता है। 

कार्तिक मास 2022 का महत्व:-कार्तिक मास का क्या महत्व होता है इसके बारे में हम आपको विस्तार से बताएंगे जानने के लिए आर्टिकल को पढ़ते रहिए।

आपकी जानकारी के लिए बताते हैं कि हिंदू धर्म में कोई भी शुभ कार्य करने से पहले विधि शास्त्र के अनुसार पंचांग देखकर कार्य करते हैं। समय और नक्षत्र देखकर हिंदू धर्म में शुभ कार्य करते हैं। खास तौर पर शादी विवाह, मुंडन, गृह प्रवेश आदि कार्तिक मास के महीने में करते हैं। 


क्योंकि यह महीना जगत के पालनहार श्री हरि भगवान विष्णु का महीना है। कहा जाता है कि इस महीने में पवित्र नदियों में स्नान और दान-पुण्य करना बहुत ही फलदाई माना गया है। 

ऐसा करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते और अपने भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करते हैं। लेकिन इसके साथ आपकी जानकारी के लिए बताते हैं कि कार्तिक मास का महत्व और उसके नियम भी हैं, जो हमने नीचे बताए हैं।


कार्तिक माह 2022 व्रत और त्योहार का आगमन:-(kartik month festival coming 2022.)

कार्तिक मास 2022 का महत्व और व्रत त्यौहार


13 अक्टूबर 2022 दिन गुरुवार:-करवा चौथ संकष्टी गणेश चतुर्थी।

करवा चौथ:-+करवा चौथ सनातन धर्म यानी कि हिंदू धर्म में सुहागन पत्नियां अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं और अपने पति की लंबी उम्र के लिए भगवान से प्रार्थना करती हैं उनका ऐसा करना करवा चौथ कहलाता है।

14 अक्टूबर 2022 दिन शुक्रवार:-+इस दिन रोहिणी व्रत होगा।

रोहिणी व्रत-इस व्रत को खास तौर पर जैन धर्म के अनुयाई करते हैं। इस दिन वे भगवान वासुपूज्य की पूजा करते हैं।

15 अक्टूबर 2022 दिन शनिवार :+स्कंद षष्ठी व्रत।


17 अक्टूबर 2022 दिन सोमवार:-+अहोई अष्टमी तुला सक्रांति।

अहोई अष्टमी तुला सक्रांति:-अहोई अष्टमी तुला सक्रांति का विराट संतान अर्थात अपनी औलाद की दीर्घायु यानी लंबी उम्र के लिए कार्तिक माह की अष्टमी को रखा जाता है। कार्तिक माह की अष्टमी के दिन ही सूर्य देव तुला राशि में प्रवेश करते हैं। इसलिए इसे तुला सक्रांति भी कहते हैं।

21 अक्टूबर 2022 दिन शनिवार।:+धनतेरस, यम दीपम।

कार्तिक स्नान का महत्व:-सनातन धर्म यानी कि हिंदू धर्म में गंगा स्नान को बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है। कार्तिक के इस पूरे माह में पवित्र नदियों में स्नान करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। 

आपको ऐसा लगता है कि पवित्र नदियों में स्नान करना संभव नहीं है तो आप अपने घर पर नहाने के पानी में गंगाजल की कुछ बूंदें डालकर उस पानी से स्नान करें। 

इस बात का खास ध्यान रखें कि आप कार्तिक मास के स्नान कर रहे हैं तो सूर्य उदय होने से पहले स्नान करें और उसके बाद की ही पूजा पाठ करें।

कार्तिक मास के नियम:-कार्तिक मास का जितना महत्व है उतने ही इसके नियम भी हैं। यह आज हम आपको अपने आर्टिकल में बताएंगे। जानने के लिए आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

धार्मिक और सामाजिक मान्यताओं के अनुसार कार्तिक माह के इस महीने में मेवा खाने की सलाह भी दी जाती है। कहां जाता है कि इस माह में गर्म खाद्य पदार्थ खाने की सलाह दी जाती है जिन की तासीर गर्म होती है। कार्तिक माह में दाल खाने पर पाबंदी होती है। और खास तौर पर इसमें दोपहर में सोने के लिए सख्त मनाही है।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)